बिहार में जगंल राज: दो महीने में 10 बड़े हत्‍याकांड, RJD-JDU नेता भी दिखा रहे दबंगई

बिहार में एक हफ्ते के भीतर दो विपक्षी दलों के नेताओं की हत्‍या कर दी गई। इस बार अपराधियों ने बिहार बीजेपी के उपाध्‍यक्ष विशेश्‍वर ओझा को निशाना बनाया। उन्‍हें 12 फरवरी को भोजपुर के सोनवर्षा में गोली मारी गई। बिहार में बढ़ते अपराध को लेकर भले ही नीतीश सरकार सौ बहाने बनाए, लेकिन सच यही है कि बिहार में अपराध बढ़ रहा है। आगे की स्‍लाइड में देखिए बिहार में बीते दो महीने कैसे अपराध बढ़ा और किस प्रकार से आरजेडी-जेडीयू नेताओं के नाम विभिन्‍न अपराधों में सामने आए

पंद्रह दिसंबर 2015 को ठेकेदार जयकांत देव की जमीन विवाद के चलते पटना के राजीव नगर में हत्‍या कर दी गई थी।

05 फरवरी 2016 को लोकजनशक्ति पार्टी के नेता ब्रजनाथ सिंह को बदमाशों ने AK-47 से सरेआम भून दिया था।

25 जनवरी 2016 को पटना के रेलवे स्‍टेशन पर इंदौर की एक लड़की की ऑटो में हत्‍या कर दी गई।

05 फरवरी 2016 को लोकजनशक्ति पार्टी के नेता ब्रजनाथ सिंह को बदमाशों ने AK-47 से सरेआम भून दिया था। आगे की स्‍लाइड में कैसे महागठबंधन के नेता दिखा रहे हैं दबंगई

आरजेडी विधायक कुंती देवी के बेटे रंजीत यादव पर डॉक्टरों से मारपीट का आरोप लगा है। पुलिस ने पीड़ित डॉक्टर का बयान दर्ज कर लिया है। रंजीत यादव पर आरोप है कि उन्‍होंने नीमचक बथानी के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (पीएचसी) के डॉक्टर सत्येंद्र कुमार (तस्‍वीर में) को लाठी से पीटा। डॉक्टर सत्येंद्र कुमार ने बताया कि वह अस्पताल में रात की ड्यूटी पर थे। रात आठ बजे के करीब विधायक कुंती देवी के बेटे रंजीत कुमार यादव पांच अन्य साथियों के साथ नशे में धुत होकर आए और उनके साथ मारपीट की।

कुछ दिनों पहले जदयू विधायक सरफराज आलम पर राजधानी एक्सप्रेस में महिला छेड़छाड़ का आरोप लगा था। हालत यह हो गई थी कि नीतीश कुमार को खुद इस मामले पर सफाई देनी पड़ी थी। नीतीश कुमार ने कहा था- चाहे सांसद हों या विधायक कानून से बड़ा कोई भी नहीं है। पुलिस के पास कानून तोड़ने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने का अधिकार है। राजद सांसद मोहम्मद तस्लीमुद्दीन के बेटे और अररिया जिले के जोकीहाट से तीसरी बार विधायक आलम को इस मामले में गिरफ्तार भी किया गया। छेड़छाड़ की घटना घटना 17 जनवरी को हुई थी।

पूर्व मंत्री और रुपौली से विधायक बीमा भारती के पति को जेडीयू समर्थक जेल से छुड़ा ले गए थे। विधायक के पति अवधेश मंडल को हत्‍या के मामले में गवाहों को धमकाने के आरोप में पुलिस ने गिरफ्तार किया था। पूर्णिया पुलिस ने थानाधिकारी को सस्‍पेंड कर दिया है और सदर सब डिवीजन पुलिस ऑफिसर को कारण बताओ नोटिस भेजा है। पुलिस ने बताया कि अवधेश मंडल पर कई संगीन आरोप हैं। वह चंचल पासवान हत्‍याकांड में मुख्‍य आरोपी हैं। उन्‍होंने मारंगा थाने के न्‍यू सिपाहपुरा में रहने वाली चंचल की पत्‍नी सोनिया और उसके बेटे विजय पासवान को इस मामले में गवाही नहीं देने की धमकी दी। उन्‍हें पिछले साल हुए विधानसभा चुनावों के दौरान पूर्णिया से बाहर निकाल दिया गया था।

कांग्रेस के विधायक सिद्धार्थ नाथ सिंह पर 18 साल की लड़की के अपहरण का मामला दर्ज किया गया। मसौढ़ी पुलिस ने विधायक सिद्धार्थ नाथ सिंह के खिलाफ स्‍थानीय निवासी ने केस दर्ज कराया है। शिकायत के मुताबिक, एमएलए लड़की के घर पहुंचे और जैसी ही लड़की बाहर निकली उसे अगवा कर लिया। विधायक जाने-माने चाइल्‍ड स्‍पेशलिस्‍ट उत्‍पल कांत के बेटे हैं। आरोप है कि उन्‍होंने 2014 में भी इसी लड़की का अपहरण कर लिया था। उस वक्‍त 23 दिनों के बाद जहानाबाद पुलिस लड़की को लेकर वापस आई थी। पुलिस का कहना है कि मामला प्रेम प्रसंग से जुड़ा हो सकता है। हालांकि, विधायक शादीशुदा हैं और उनका एक बच्‍चा भी है |

Please follow and like us:
0

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *